Astrovigyan.com

Astrology, Vastu Shastra & Hindu Pooja Services & Consultancy
Welcome to 

Horashastra

Click here to edit subtitle

Blog

BHAIYA DOOJ

Posted on October 25, 2014 at 5:15 AM

                                                                                                                       भैया दौज

                    दीपावली पर्वो की कड़ी में भैया दूज पंच दिवसीय पर्व है| कातिक शुकल पक्ष की द्दितीया को यह पर्व मनाया जाता है, इसलिए इसे भैया दूज कहते है| इसका सम्बन्ध भाई -बहन के पवित्र प्रेम के आदान प्रदान से है| इस दिन भाई बहन के घर जाता है| कहते है कि जो भाई बहन के घर जाकर भोजन करता है उसकी अकाल मृत्यु नहीं होती इसलिए इसे यम द्दितीया भी कहते है| इसके पीछे हिंदू परम्परा में कथा है कि सूर्य कि संतानें यम और यमुना वर्षो बाद आज के दिन ही मिलें| यमुना ने यम का भर पूर स्वागत किया और प्रसन्न हो कर यम ने वरदान दिया कि आज के दिन जो बहन अपने भाई का सत्कार करेगी, तिलक लगायेगी, वह् सदा आनंद प्राप्त करेगी | इस दिन भगवान चित्र गुप्त की पूजा होती है क्यो कि चित्र गुप्त व्यकित के कर्मो का हिसाब रखते है| चित्र गुप्त का जन्म ब्र्रह्मा जी के चित्त से हुआ था | मुख्य रुप से इनकी पूजा भी भाई दूज के दिन होती है| इनकी पूजा करने से व्यकित को लेखनी, वाणी और विद्या का अदभुत वरदान मिलता है| सुबह नहा धोकर पूर्व दिशा की और मुख करके बैठ जाए ,चौक बनाये या लकडी की चौकी पर पीला कपड़ा बिछा ले उसपर चित्र गुप्त की मूर्ति या फोटो लगा ले| सामने देशी घी का दीपक जलाये| सफेद कागज पर हल्दी मिलें पानी में उंगली डुबोकर पहेले ॐ गणेशाय नम लिखे फिर 11 बार ॐ चित्र गुप्ताय नम: लिखकर उसे चित्र गुप्त भगवान को अर्पित कर दे, जिस कलम से लिखा है उसे अपने पास सुरक्षित रख ले भले refill बदल सकते है| पर कलम वही अपने पास रखे|इस दिन यमराज की भी पूजा करतें है | शाम को घर के मुख्य दरवाजे के पास बायी तरफ़ मिट्टी के कलश में पानी भरकर रखे|फिर उस पर सरसों के तेल का चौमुखी दीपक रख कर जलाये| सुबह को उस जाल से पूरे घर में छिड़काव करे| इससे स्वास्थ्य उत्तम रहेगा और बीमारी से मुकित मिलेगी|

                  मनचाहे जीवन साथी पाने के लिए इस दिन अगर शिव- गोरी की उपासना की जाय तो वह् शीघ्र लाभकारी होती है| इस दिन शिव गोरी के साथ कैलाश पर्वत पर विराजमान रहते है| इनकी संयुक्त रुप से पूजा करे तथा सफेद व लाल फूलों की एक माला दोनों को एक साथ पहनाये और शीघ्र विवाह के लिए प्रार्थना करे|

                 जैन परंपरा के अनुसार महावीर निर्वाण के बाद उनके बडे भाई राजा नंदिवर्धन दाह संस्कार के बाद भी वहां बैठै विलाप कर रहे थे| परिजनों से उनका यह हाल देखा न गया | अंत: उनकी बहन सुर्दशाना ने आकर उन्हें शौक मुक्त किया }

 

आचार्य अजय मोहन लाल

Categories: General

Post a Comment

Oops!

Oops, you forgot something.

Oops!

The words you entered did not match the given text. Please try again.

Already a member? Sign In

49 Comments

Reply Toonabson
6:28 PM on August 28, 2021 
cialis price
Reply Adecity
5:42 AM on August 29, 2021 
Propecia
Reply Hiepliend
6:35 AM on August 29, 2021 
ivermectin for humans online
Reply Propecia
11:55 AM on September 4, 2021 
Cheap Price
Reply Buinulp
2:10 PM on September 7, 2021 
Reply abrapab
9:40 AM on September 8, 2021 
Viagra
Reply Priligy
5:34 PM on September 14, 2021 
Propecia Pris I Sverige
Reply allorgo
6:06 AM on September 16, 2021 
zithromax dose for chlamydia
Reply Saumnfalm
5:50 PM on September 16, 2021 
buy priligy without a script
Reply Glarrylof
6:26 PM on September 17, 2021 
http://buyplaquenilcv.com/ - hydroxychloroquine 200 mg price
Reply cheap lasix online
6:31 PM on September 17, 2021 
Propecia 40 Mg Online
Reply clamligma
11:17 PM on September 18, 2021 
http://buylasixshop.com/ - torsemide to furosemide
Reply hydroxychloroquine online order
9:24 AM on September 19, 2021 
Buy Vibramycin Doxycycline New Zealand
Reply Velieds
1:03 AM on September 22, 2021 
http://buyzithromaxinf.com/ - azithromycin for chlamydia
Reply Assomigiz
2:48 AM on October 2, 2021 
Prednisone
Reply gabapentin classification
12:55 PM on October 3, 2021 
Viaga Canada 411
Reply Imagnix
6:50 PM on October 4, 2021 
Reply Prednisone
10:07 PM on October 4, 2021 
Effet Cialis 5mg
Reply Geancejef
7:48 PM on October 7, 2021 
Reply alofona
1:57 AM on October 11, 2021 
Neurontine