Astrovigyan.com

Astrology, Vastu Shastra & Hindu Pooja Services & Consultancy
Welcome to 

Horashastra

Click here to edit subtitle

Blog

ASTROLOGY

Posted on October 23, 2014 at 12:35 AM

                                                                                                  दीपावली पर सूर्य ग्रहण का साया

           23 October,2014 कातिक मास कि अमावस्या पर पूरे भारतवर्ष में दीपावली का त्योहार मनाया जायेगा| इस रात्रि को महानिशा वाली रात भी कहा जाता है| इस दिन सूर्य ग्रहण भी लग रहा है| अमावस्या के दिन जो सूर्य ग्रहण लग रहा है वह् आशिक सूर्य ग्रहण है जिसका समय है मध्य रात्रि एक बजकर सात मिनट से लेकर चार बजकर इक्कीस मिनट तक का है|लेकिन इसका प्रभाव भारतवर्ष में नही पड़ेगा क्योकि भारत में रात को सूर्य नही दिखाई पड़ता है इसलिये सूर्य ग्रहण भारत में दश्य नही है| दिखाई नही पड़ता है इसलिए इससे हानि होनेवाले दुष्प्रभाव भी नहीं होगे| जो मान्यताये ग्रहण काल के दौरान होती है कि बासी भोजन नही करना चाहिए, गर्भवती महिलाओं को बाहर नही निकालना चाहिए आदि ये सभी वर्णनाये या नियम इस समय असर नही डालेगे|

         सूर्य इस समय शनि के साथ होगे, दूसरा सूर्य पर ग्रहण लग रहा है इसलिए यह सामान्य ग्रहण भी नहीं है| कहते है कि ग्रहण काल में ईश्वर आपकी मुश्किलों को ,बाधाओं को हर लेता है, इसलिए इस समय पूजा, उपासना की जाय तो वह् विशेष फलदायी होती है| विभिन राशियों पर विभिन असर पड़ता है और उसके निवारण के भी अचूक उपाय है| इनको करने से, अपनाने से ईश्वर आपकी तमाम समस्याओं को दूर् कर देता है|

         नहा धोकर पूजा स्थान में विशेष प्रकार के मंत्रों का जाप किया जाए और दीपावली के दूसरे दिन नहा धोकर उस गृह से संबंधित चीजू का दान करने से आने वाली संकटों का सामना कर सकते है|

        ग्रहण के पश्चात दान का अत्यधिक महत्व है| वस्त्रों का , अनाज का, फलो का, धन का, तिल का तथा गुड़ का दान करने की परम्परा है| बिना दान के आपकी पूजा निष्फल हो जाती है| दान करने से ईश्वर आपको अपार धन, बुद्धि एवं सुखी समृद्धशाली जीवन का वरदान देते है|

       सूर्य ग्रहण के दौरान अगर आप किसी मंत्र को अभिमंत्रित या सिद्ध करना चहिते है तो भी विशेष पूजा से, जाप से उसे सिद्ध कर सकते है और जब यह मंत्र सिद्ध हो जाते है तब जब भी आपको मुश्किलें या बाधाये आती हो, उस समय यह अभिमंत्रित मंत्र किसी वरदान से कम नहीं होते| इनको जपने से आपकी समस्याओं का हाल निकाल आता है और आपकी मनोकामनाये पूरी हो जाती है| नो खाने वाला कोई भी नंबर वाला यंत्र भी आप सिद्ध कर सकते है अगर उससे संबधित मंत्रों का जाप किया जाए| स्फटिक कि माला इसमे विशेष उपयोगी है| इससे आपके जीवन में धन एक बार आ जयेगा तो फिर जायेगा नही |

 

आचार्य अजय मोहन लाल

 

Categories: Saturn

Post a Comment

Oops!

Oops, you forgot something.

Oops!

The words you entered did not match the given text. Please try again.

Already a member? Sign In

15 Comments

Reply Smursuaro
11:08 PM on December 16, 2020 
cialis soft tab Pathyboaby buy real cialis online Evareestoots Usa Viagra Prices
Reply Reespag
6:07 AM on April 17, 2021 
https://vskamagrav.com/ - come aquistare kamagra post.pay
Reply jevogma
11:06 PM on June 4, 2021 
dapoxetine
Reply jevogma
4:16 AM on June 21, 2021 
generic viagra us customs
Reply apazore
2:08 AM on April 12, 2022 
Gkcupl https://bestadalafil.com/ - buy cialis generic Qjyguo generic cialis vs cialis Dqvtaq Kwydnk https://bestadalafil.com/ - cialis price
Reply DouglasRence
4:48 AM on June 25, 2022 
Reply Williamwhozy
5:07 PM on June 30, 2022 
???????? ????????????? ??????????
https://shtabeler-elektricheskiy-samokhodnyy.ru
Reply AnthonyMough
7:09 PM on July 13, 2022 
Reply JesseAbild
8:52 PM on July 29, 2022 
??????? ????? ? ????????? ??????????
https://samokhodnyye-elektricheskiye-telezhki.ru/
Reply ThomasPHepe
4:39 PM on July 30, 2022 
Reply Michaeldax
2:59 PM on August 2, 2022 
Reply Daniellyday
2:55 AM on August 8, 2022 
Reply DennisNes
6:28 AM on August 9, 2022 
Reply Richardnex
10:00 PM on August 11, 2022 
Reply AndrewTew
11:38 PM on August 13, 2022